अगर आप भी कर रहे हैं गूगल पर कस्टमर केयर का नंबर सर्च, तो हो जाए सावधान !

Facebook
Twitter
LinkedIn
Telegram
WhatsApp
Print
Google Search

हम अक्सर कस्टमर केयर नंबर या किसी ऐप या कोई भी जानकारी प्राप्त करने के लिए गूगल पर सर्च करते हैं। आप भी ऐसा करते है? अगर हां, तो अब आपको सावधान होने की जरूरत है। कही ऐसा ना हो की वो सर्च में दिखने वाला नंबर जालसाजों का हो और आपका बैंक बैलेंस उड़ जाए।

आज के इस विडियो/ब्लॉग में हम इन पॉइंट्स पर बातें करेगें-

  • लोन ऐप क्या है
  • लोन ऐप के नाम पर साइबर फ्रॉड कैसे करते हैं ठगी
  • लोन ऐप से जुड़ी जानकारी कहां से प्राप्त करें
  • लोन देने वाली ऐप Fake हैं या नहीं कैसे पता करें
  • सावधानियां

लोन ऐप क्या हैं?

जैसा की नाम से ही आप समझ सकते है, लोन ऐप ऐसे ऐप को कहते है जिसके जरिए आपको लोन मिल सकता है। यहां आपको पर्सनल, एजुकेशनल से लेकर सभी प्रकार के लोन मिल जाते हैं। लेकिन, इसके दुष्प्रभाव भी उतने ही हैं।

अगर आप लोन ऐप के ज़रिए लोन लेना और फ्राउडस्टर्स से बचे रहना चाहते हैं तो इस वीडियो/ब्लॉग को पूरा देखे/पढ़े। और जाने कि

राम बहादुर जी कैसे हुए साइबर ठगी के शिकार

मीडिया रिपोर्ट की माने तो नोएडा के रामबहादुर जी के साथ लोन ऐप की जानकारी निकालने को लेकर फ्रॉड हुआ है। दरअसल, उन्हे एक लोन ऐप से संबंधित कस्टमर केयर नंबर और लोन ऐप को एक्टिवेट करने के विषय में जानकारी चाहिए थी। इसलिए उन्होंने गूगल पर सर्च किया। सर्च में कुछ नंबर दिखे और उन्हे लगा की ये नंबर कस्टमर केयर का नंबर हैं।

लेकिन, सर्च में जो नंबर दिख रहा था वो किसी कस्टमर केयर का न होकर जालसाजों का था। जब उन्होंने इस नंबर से कॉल किया तो जालसाजो ने लोन ऐप एक्टिवेट करने के नाम पर एनी डेस्क नामक एक रिमोट ऐप डाउनलोड करवाया और उनके मोबाइल को हैक कर लिया। रामबहादुर जी को इस बात का पता तब चला जब उनके अकाउंट से पंद्रह हजार रुपए निकलने का एसएमएस आया।

रामबहादुर जी ने इसकी शिकायत कोतवाली सेक्टर-126 पुलिस स्टेशन में की। पुलिस आरोपी की छानबीन में जुटी हैं।

लोन ऐप से जुड़ी जानकारीयां कहां से प्राप्त करें

लोन ऐप से जुड़ी जानकारियां आप उसके ऑफिशियल वेबसाइट से प्राप्त कर सकते हैं।

लोन देने वाली ऐप Fake हैं या नहीं कैसे पता करें

नीचे बताएं गए बिन्दुओं से आप जान पाएंगे की जिस ऐप से आप लोन ले रहे है वो असली है या नकली।

  • किसी भी लोन ऐप को डाउनलोड करने से पहले उसकी रेटिंग, रिव्यू एक बार अच्छे से पढ़ ले। ये सारी जानकारी आपको ऐप स्टोर पर मिल जाएगी।
  • लोन ऐप को किस कंपनी ने डेवलप किया है और कौन सी कंपनी चला रही हैं, भारत में उसका दफ्तर कहां है, दफ्तर का पता, कॉन्टैक्ट डिटेल्स इत्यादि इन सभी जानकारी को एक बार चेक कर ले। अगर किसी ऐप की ये जानकारी आपको नही मिलती तो थोड़ा सावधान रहें। अगर संभव हो तो उस ऐप से दूरी बनाएं।
  • सबसे पहले ये चेक करें की उस ऐप से कोई ऐप जुड़ा है भी या नहीं। गूगल पॉलिसी के मुताबिक किसी भी लोन ऐप के साथ कोई न कोई नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी जुड़ी होनी चाहिए। अगर ऐसा नही है तो इससे सावधान होने की ज़रूरत हैं।
  • एक अच्छा ऐप वही होता हैं जो यूजर्स से उसकी जानकारी कम से कम मांगे। क्योंकि फर्जी ऐप यूजर से ज्यादा से ज्यादा जानकारी प्राप्त करने की सोचते हैं ताकि उनसे ठगी कर सके।
  • असली ऐप अपने यूजर को लोन देने से पहले अपने बारे में सारी जानकारी देता हैं। साथ ही आपको यह पता होना चाहिए की ऐप कभी भी लोन नहीं देता बल्कि वो एक मध्यम बनता है बैंक और यूजर के बीच का।

चलिए अब हम जानते है की इस तरह के साइबर फ्रॉड के कैसे बच सकते हैं।

सावधानियां  

  • अनजान नंबर से आए कॉल का भरोसा न करें
  • अपने खाते और निजी जानकारी न दे
  • कस्टमर केयर का नंबर उस कंपनी के ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर ढूंढे
  • कोई भी ऐप किसी दूसरे के कहने पर इंस्टॉल ना करे
  • गूगल सर्च में दिखने वाले नंबर पर विश्वास न करे

फाइनल थॉट

इस वीडियो/ब्लॉग में आपने जाना की जब आप गूगल में दिखने वाले रैंडम नंबर को कस्टमर केयर नंबर समझ कर कॉल या उनसे मदद लेने की कोशिश करते हैं तो आपके साथ धोखाधड़ी कैसे हो सकती है। और आप इनसे कैसे बच सकते है।

इस वीडियो को अधिक से अधिक लाइक और शेयर करें। ताकि आप और आपके आस पास के लोग सतर्क और सुरक्षित रहें।

जय हिंदी

Facebook
Twitter
LinkedIn
Telegram
WhatsApp
Print